सम्राट जरासंध स्टेच्यू बोधगया मैं प्रतिदिन आरती और प्रसाद वितरण हो?

देश का बहुचर्चित सम्राट जरासंध स्टेच्यू, धनामा ,बोधगया ,गया (बिहार) मैं प्रतिदिन आरती और प्रसाद वितरण हो?
मगध सम्राट जरासंध जी क्लब इस विषय पर गंभीरता से विचार कर रही है
कि
चंद्रवंशीयों के गौरव, देश का सबसे सुंदर, चंद्रवंशीओं का कुलभूषण, कुलदेवता
और
मगध साम्राज्य के चक्रवर्ती मगध सम्राट, के समीप संध्या 6:00 बजे प्रतिदिन नियमित रूप से, एक ब्राह्मण के द्वारा आरती और प्रसाद वितरण हो !
इसके लिए एक योजना पर विचार कर रही है !
इस योजना के तहत प्रतिदिन का
जो खर्च आएगा ,
उसका कूपन बनेगा और प्रतिवर्ष 365 चंद्रवंशीयों को इससे जोड़ादेश का बहुचर्चित सम्राट जरासंध स्टेच्यू, धनामा ,बोधगया ,गया (बिहार) मैं प्रतिदिन आरती और प्रसाद वितरण हो?
मगध सम्राट जरासंध जी क्लब इस विषय पर गंभीरता से विचार कर रही है की
चंद्रवंशीयों के गौरव, देश का सबसे सुंदर, चंद्रवंशीओं का कुलभूषण, कुलदेवता
और
मगध साम्राज्य के चक्रवर्ती मगध सम्राट, के समीप संध्या 6:00 बजे प्रतिदिन नियमित रूप से, एक ब्राह्मण के द्वारा आरती और प्रसाद वितरण हो !
इसके लिए एक योजना पर विचार कर रही है !
इस योजना के तहत प्रतिदिन का
जो खर्च आएगा ,
उसका कूपन बनेगा और प्रतिवर्ष 365 चंद्रवंशीयों को इससे जोड़ा जाएगा !
आरती अनुदान दाता के नाम से होगा!
अनुदान दाता का चयन पहले आओ पहले पाओ की तर्ज पर किया जाएगा!
अनुदान बैंक पेमेंट के माध्यम से ही लिया जाएगा!
विदित हो कि यह स्टेच्यू नेशनल हाईवे 82 और 83 के बीच में अवस्थित है! यहां प्रतिदिन प्रतिमा स्थल की साफ सफाई की जाती है जिसके लिए ₹2000 प्रतिमा दिया जाता है!
इस संबंध में और कोई अगर आप सबों कोई सुझाव क्या सलाह हो तो सादर आमंत्रित है!
मगध सम्राट जरासंध जी क्लब! जाएगा !
आरती अनुदान दाता के नाम से होगा!
अनुदान दाता का चयन पहले आओ पहले पाओ की तर्ज पर किया जाएगा!
अनुदान बैंक पेमेंट के माध्यम से ही लिया जाएगा!
विदित हो कि यह स्टेच्यू नेशनल हाईवे 82 और 83 के बीच में अवस्थित है! यहां प्रतिदिन प्रतिमा स्थल की साफ सफाई की जाती है जिसके लिए ₹2000 क्लब की ओर से भुगतान किया जाता है!
इस संबंध में और कोई अगर
आप सबों का कोई सुझाव /सलाह हो तो,
सादर आमंत्रित है!
मगध सम्राट जरासंध जी क्लब!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed