महासभा का सदस्य बने

. एक कड़वी सच्चाई
अखिल भारतवर्षीय चंद्रवंशी क्षत्रिय महासभा में किसी भी तरह का परिवर्तन के लिए सबसे पहले मौलिक अधिकार के तहत उसका सदस्य बनना होगा?
सदस्य बनने के साथ-साथ कम से कम समान विचारधारा वाले 51 प्रतिशत लोगों को जोड़ना पड़ेगा ?
लोकतांत्रिक व्यवस्था में अगर सर्वसम्मति से हम कुछ नहीं कर पाते हैं तो बहुमत के आधार पर हम समाज की जरूरतों और अपनी बातों को मनवा सकेंगे?
किसी भी संगठन में किसी व्यक्ति से जाति दुश्मनी का कोई स्थान नहीं होता है?
लोकतांत्रिक व्यवस्था में अगर कोई गलत है तो उसका जवाब बुलेट के जगह बैलेट से देने की व्यवस्था बनाई गई है?
जिस मंच पर हम सभी बात कर रहे हैं उस मंच का नाम ही है चंद्रवंशी एकीकरण डेलीगेट टीम /एकीकरण टीम!
इसलिए अगर हम लोग वास्तव में महासभा के अंदर आज के परिवेश के अनुसार ,
उसके संवैधानिक ढांचा में परिवर्तन और सही लोगों का नेतृत्व चाहते हैं तो सबसे पहले उसका संवैधानिक सदस्य बने और अपने साथियों को बनाएं ! अगर सामाजिक मंच पर किसी मुद्दे को लेकर कोई बैठक होती है और उसमें आमंत्रित किया जाता है
तो हम अवश्य भाग ले और अगर किसी कारण बस भाग नहीं ले सकते हैं
तो आयोजक को इसकी सूचना दें और अपने प्रस्ताव और विचारों से उन्हें अवगत कराएं और उनसे आग्रह करें की मीटिंग में इस पर भी विचार होना चाहिए!
अगर मेरे अनुपस्थिति में कोई बैठक होता है और उसमें कोई निर्णय लिए जाते हैं और उस निर्णय से हम सहमत नहीं है तो
संगठन के संचालक को एक बार पुण: उस निर्णय पर पुनर्विचार के लिए अपील करना चाहिए
ना कि उस निर्णय को सार्वजनिक आलोचना करना चाहिए?
एक स्वस्थ परंपरा के तहत हम सबों को इस पर विचार करना चाहिए ताकि जिन उद्देश्यों के लिए यह मंच बनाया गया है उसमें हम सभी सफल हो!
धन्यवाद

महासभा का सदस्य बने

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *