दुनिया के चंद्रवंशी एक हो

तरकस में तीर रखकर समझौता की बात करना बेईमानी?

देश के चंद्रवंशी एक हो ,
महासभा से गुटबाजी समाप्त हो!
इसको लेकर फिलहाल अभियान तेज हो गया है !

जो चंद्रवंशीयों और महासभा के लिए अच्छा शुभ संकेत है !

इस काम और प्रयास में जुड़े सभी व्यक्ति और समूह बधाई के पात्र हैं!

आज श्रमिक दिवस है
संकल्प दिवस है

क्या आज के दिन हमारे समाज के क्रांतिकारी योद्धागान
जो अलग-अलग चन्द्रवंशीओं के नाम पर संगठन बनाकर रखे हैं

क्या आज उसका विघटन कर एकीकरण के साथ जुड़ने की घोषणा करेंगे?
अगर ऐसा करते हैं तो
एक मिसाल साबित होग

और चंद्रवंशीयो की एकता के दिशा में उनके द्वारा किया गया यह प्रयास
मील का पत्थर साबित होगा?
अन्यथा
उनके द्वारा दिया गया यह नारा
दुनिया के चंद्रवंशी एक हो ,
महासभा से गुटबाजी समाप्त हो!

एक डपोरशनखी नारा होगा?
तरकस मैं तीर रखकर समझौता की बात करने जैसा होगा?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *